गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं ..............

आप सभी ब्लागर को नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं .............
ये वर्ष आप सभी के जीवन में नई ऊंचाइयां स्थापित करे इन्ही शुभकामनाओं के साथ नव वर्ष की नयी गज़ल
उम्मीद है आप सभी को पसंद आयेगी - " पुष्पेन्द्र सिंह "


बचपन से जो ख्वाब संजोया वो पूरा कब होगा !
अपने अपने घर में सब का रैन बसेरा कब होगा !!

खेतों में लहलहाती फसलें आँखों में हो उम्मीदें !
हर बच्चे के हाथ किताबें ऐसा मंजर कब होगा !!

रात और दिन बस एक ही मसला रोटी का !
कोई न भूखा सोने पाए ऐसा शुभ दिन कब होगा !!

नारी को भी पुरुषों सा समता का अधिकार मिले !
सब का दर्द अपना सा लगे ऐसा आलम कब होगा !!

घर -घर में है शीत युद्ध और मतभेदों की दीवारें !
चहुँदिश से बस प्यार ही बरसे ऐसा मौसम कब होगा !!

37 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

खेतों में लहलहाती फसलें आँखों में हो उम्मीदें !
हर बच्चे के हाथ किताबें ऐसा मंजर कब होगा !
बहुत ही लाजवाब लिखा है ........ बहुत पसंद आया ये शेर .........
नव वर्ष बहुत बहुत मंगलमय हो ........

अर्कजेश ने कहा…

नव वर्ष की प्रभात रश्मियाँ, बीते कल के तम को लीलें,
सदिच्छाओं के सुयोग , से सबका जीवन सुखमय हो,

नव वर्ष मंगलमय हो !

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

Mr. Singh,
thanks for visiting my blog and giving ur valuable comments.....

above creation is wonderful....fresh feeling of course...
have a good day!
aata rahunga aapke blog per...follower bann gaya hoon...

योगेश स्वप्न ने कहा…

sunder rachna. badhaai.

नव वर्ष २०१० की हार्दिक मंगलकामनाएं. ईश्वर २०१० में आपको और आपके परिवार को सुख समृद्धि , धन वैभव ,शांति, भक्ति, और ढेर सारी खुशियाँ प्रदान करें . योगेश वर्मा "स्वप्न"

अबयज़ ख़ान ने कहा…

खेतों में लहलहाती फसलें आँखों में हो उम्मीदें !
हर बच्चे के हाथ किताबें ऐसा मंजर कब होगा !!

बेहतरीन लाइन... हमारी दुआ है, कि नए साल में हर बच्चे के हाथ में किताबे हों.. नए साल की ढेर सारी शुभकामनाएं...
मेरे ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया..

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये.
सुख आये जन के जीवन मे यत्न विधायक हो
सब के हित मे बन्धु! वर्ष यह मंगलदयक हो.

(अजीत जोगी की कविता के अंश)

shriraj ने कहा…

mubarak ho aapko bhee naye versh ki badhai,
aapki is gazal ne hamare sapno ki yaad to dilai.

sukriya kabool kare

shyam1950 ने कहा…

प्रिय पुष्पेन्द्र जी पहली बार आपकी गज़ल पढ़ी बेशक इतनी कसी हुई नहीं लेकिन जिस सोच को प्रतिध्वनित करती है वह समसमयिक है
घर घर में है शीत युद्ध और मतभेदों की दीवारे के साथ अपने अपने घर में रैन बसेरे होने की कामना विरोधाभासी है
आज की समस्या ही अपने अपने घर परिवार की है और जरा गहरे में उतरेंगे तो पाएंगे मूल रूप से घर परिवार ही हर प्रकार के सामाजिक रजनैतिक आर्थिक और धार्मिक उत्पीडन का जन्मस्थल बन चूका है अब तो एक नए विकल्प के बारे में सोचना होगा जहा किसी के पास कोई घर परिवार न हो अपितु आयु वर्ग पर आधारित स्त्री पुरुषों के आत्मनिर्भर संघ हों जहाँ किसी का कुछ भी अपना न हो सब कुछ सबका हो ताकि अहंकारमुक्त , लोभ मुक्त . स्पर्धा मुक्त मोहमुक्त दुःख मुक्त जीवन जिए जाने की सम्भावना उजागर हो सके
एक कवि यदि चाहे तो बहुत कुछ कर सकता है आज इस तकनीक के युग में तो संभावनाओं के अनंतानत द्वार खुल गए हैं
आपकी टिपण्णी के लिए बहुत धन्यवाद

shyam1950 ने कहा…

पुनश्च : अगली बार यदि मेरे किसी ब्लॉग पर आने का समय मिले तो इसी सन्दर्भ में प्रश्न लेकर आईएगा .. एक कवि मूलत प्रश्न ही होता है .. प्रश्न ही प्रश्नों के इस जंगल का उत्तर दे पायेंगे

seema gupta ने कहा…

आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये
regards

रंजीत ने कहा…

apko bhee nav varsha kee hardik subhkaamnayen. aagen bhee aapse rachnatamak lekhan kee umeed rahegee.
Dhanyawad.

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बहुत सुन्दर ग़ज़ल।
आप को और आपके समस्त परिवार को नव वर्ष २०१० की हार्दिक शुभकामनायें।

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

घर -घर में है शीत युद्ध और मतभेदों की दीवारें !
चहुँदिश से बस प्यार ही बरसे ऐसा मौसम कब होगा !!

बहुत सुन्दर.....!!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

रात और दिन बस एक ही मसला रोटी का !
कोई न भूखा सोने पाए ऐसा शुभ दिन कब

काश आपके सवालों के जवाब इतने ही आसान होते.

नववर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ!

Apanatva ने कहा…

sunder rachna.
badhai.

सत्यम न्यूज़ ने कहा…

खेतों में लहलहाती फसलें आँखों में हो उम्मीदें !
हर बच्चे के हाथ किताबें ऐसा मंजर कब होगा !!
लाजबाव ......
आपको भी नववर्ष के हार्दिक शुभकामनायें

Prerna ने कहा…

aapko bhi bahut bahut mubarak ho nav warsh
ati sundar lehni

sada ने कहा…

खेतों में लहलहाती फसलें आँखों में हो उम्मीदें !
हर बच्चे के हाथ किताबें ऐसा मंजर कब होगा !

बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति, नववर्ष की शुभकामनायें ।

hem pandey ने कहा…

जब गजल में व्यक्त चिंता सामूहिक रूप ले लेगी तभी उस चिंता का समाधान हो पायेगा.

सर्वत एम० ने कहा…

नए साल पर ढेरों मुबारकबाद.
गजल आपने अच्छी नहीं बहुत अच्छी कही है. लेकिन गजल की शास्त्रीयता और टेक्निक की तरफ आप ध्यान नहीं दे रहे हैं. अपने इर्द-गिर्द किसी समर्थ रचनाकार, बल्कि गजलकार से इस मामले में मदद लें. हम माँ के पेट से सब कुछ सीखकर नहीं आते, यहीं सारा कुछ सीखना होता है. सीखने में शर्म-संकोच नहीं करना चाहिए. मैं भी सीख रहा हूँ और जीवन की अंतिम सांस तक सीखता रहूँगा.
मुझे पता है मेरा कहना बुरा लग रहा होगा लेकिन मैं अपने स्वभाव से मजबूर हूँ, गलतियों पर टोकने की आदत हो गयी है.

शमीम ने कहा…

सुंदर रचना ,मेरी ओर से आपको नववर्ष की शुभकामनाएं ।

Roshani ने कहा…

नए वर्ष की आपको शुभकामनायें....
bahut hi acchi rachna...

singhsdm ने कहा…

पिंटू.........जीयो बेटा.... क्या कमाल का लिखा है.........सचमुच नए साल पर इससे बेहतर और क्या पढ़ा जा सकता था......! तुम्हारे जैसा भाई मिल जाये तो क्या कहने......!
नव वर्ष 2010 की हार्दिक शुभकामनायें.....!
ईश्वर से कामना है कि यह वर्ष आपके सुख और समृद्धि को और ऊँचाई प्रदान करे.

Rekhaa Prahalad ने कहा…

उत्तम विचार. नव वर्ष आपके जीवन मे हर्ष और उल्लास भर दे. नव वर्ष के शुभकामनाएं.

Mired Mirage ने कहा…

आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएँ।
इस वर्ष तो शायद सबकुछ नहीं होगा किन्तु आशा है आने वाले दशकों में आपकी कविता में जो कामनाएँ की गईं हैं उनमें से कुछ तो कुछ हद तक पूरी हो जाएँगी।
घुघूती बासूती

Ashish (Ashu) ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति.....
नव वर्ष की मंगल कामनाओं के साथ आपके लेखन को भी शुभ कामनाएं...

ज्योति सिंह ने कहा…

nav varsh ki haardik shubhkaamnaye ,poori rachna aapki bahut hi achchhi rahi

रश्मि प्रभा... ने कहा…

achhi gazal

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

Sanjay kumar
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

अनुपम अग्रवाल ने कहा…

छूयें बुलन्दी आपके सपने
हो ब्लोगर भी आपके अपने

सपने जब हो सच्चाई

कब ये सपने सच होंगे

Renu Sharma ने कहा…

sing ji ,
nav varsh ki aapako bhi hardik shubhkamnayen .
aapane meri rachna padhi or us vichar se sahamat dikhe uske liye shukriya .

आमीन ने कहा…

very nice
happy new year

Prem ने कहा…

vvनव वर्ष मंगलमय हो और ऐंसें ही आपकी सुंदर रचनाएँ पढ़ते रहें ।

nikhil ने कहा…

सिंह साहब
बहुत ही सुन्दर विचार हर शेर में एक नई बात
इस नव वर्ष पर आपने सभी ब्लोगर को बेहतरीन तोहफा दिया है
बहुत बहुत धन्यवाद ............................

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत खूब नये साल की बहुत बहुत शुभकामनायें गज़ल के लिये बधाई

sakshi ने कहा…

सुन्दर रचना सुन्दर विचार
बहुत बहुत आभार ......

mayur ने कहा…

khubsurat sher
खेतों में लहलहाती फसलें आँखों में हो उम्मीदें !
हर बच्चे के हाथ किताबें ऐसा मंजर कब होगा !!
badhi kubool karen

खोजें