सोमवार, 5 मई 2014

कागा तुम कितने अच्छे हो



कागा तुम कितने अच्छे हो
सुबह सुबह तुम
जल्दी जग कर
कोयल के
बच्चों से मिलकर
आजाते हो मेरे
आंगन की मुंडेर पे
और बगैर किसी
आग्रह विनय के
सुनाने लगते हो
अपना मधुर गीत
रोटी के एक टुकड़े
के लालच में
वो टुकड़ा जो मेरी माँ
शाम के खाने से
अपने हिस्से की
रोटी में से बचा कर 
मेरे लिए रख लेती है
कभी तुम मेरे पास आकार
बैठ जाते हो और कभी
दूर उड़ जाते हो
और कभी जबरदस्ती
मुझसे रोटी छीनने लगते हो
में तुम्हे लकड़ी लेकर
हँसता हुआ दौडता हूँ
कागा तुम कितने सच्चे हो
कागा तुम कितने अच्छे हो |


भोर भई सब जाग उठे
निशा गयी प्रभात है आयी
कुत्तों ने भी ली अंगडायी
कलरव गूँज उठा चिड़ियों का
सूरज की खिडकी पर दस्तक
कोयल ने छेड़ी सहनाई
निशा गयी प्रभात है आयी

आंगन आंगन चहकीं चिड़ियाँ
बच्चे भी हर्षाये है
आने वाले आगंतुक की
कागा खबर ले आये है
दौड पड़ा हलधर खेतों को
नभ पर है ललामी छायी |
निशा गयी प्रभात है आयी

पनघट पर पनिहारिन देखो
शर्माती इठलाती सी
रात की  बात बताये है
कहना चाहे कहना पाए
मन ही मन मुस्काए है
हर गम रात में डूब गया है
सुबह हुई है सुखदाई
निशा गयी प्रभात है आयी


रात तू थम जा अगर
भोर की कोई आस न हो
रौशनी भी पास न हो
भाग हो न दौड हो
न आगे निकलने की होड हो
डूबते जाएँ स्वप्न में
नीद का पी कर जहर
रात तू थम जा अगर |

टिम टिमाते दूर तारे
आँखों से करते इशारे
चाँद जो चिलमन से झांके
और धरा से दूरी  नापे
उड़ते घुमड़ते बादलों पर
छाई ये कैसी लहर
रात तू थम जा अगर |

शांति है हर ओर छाई
फैली है काली श्याही
दूर चिंता के भंवर से
ओढ़ कर चादर को सर से
स्वप्न के सागर में डूबा
रात्रि का दूजा पहर
रात तू थम जा अगर |

मंगलवार, 5 जून 2012

यह जीवन एक मधुशाला




हर एक क़िस्म का जाम यहाँ है
सुख का भी है दुख का भी
झूम रहा मद मस्त मयूरा
पीकर खुशियों का प्याला
यह जीवन एक मधुशाला |

धर्म कर्म का स्वाद है फीका
कई नहीं अब इसको पीता
पाप के जाम पे टूट पड़े सब
राग द्वेष का पीकर प्याला
यह जीवन एक मधुशाला |

पंडित मुल्ला और चमार
सब पीने को है तैयार
डाले है कंठी तुलसी की
मन मंदिर में भ्रष्टाचार
छुपा रहे सब काले धंधे
डाल के पैसों की माला
यह जीवन एक मधुशाला |

रिश्तों का तो जाम ही टूटा
दिल का दिल से नाता छूटा
भाई बना भाई का दुश्मन
दूर किऐ दौलत ने तन मन
गुम है साकी अपनी धुन में
पीकर लालच का प्याला
यह जीवन एक मधुशाला |


सत्ता के गहरे प्याले में
डूबी गयी सब खुद्दारी
सच बेचा ईमान भी बेचा
मुल्क की है अब तैयारी
खेल रहे है खून की होली
पीकर मदहोशी का प्याला
यह जीवन एक मधुशाला |

बच्चे है हर लत के आदी
खुद ही मुंसिफ खुद ही बादी
युवा के हाथ में बोतल पूरी
पिता की सब ख्वाहिशें अधूरी
और लवों सिगरेट का काश
दूर है पुस्तक का प्याला
यह जीवन एक मधुशाला |

दुनियां है मतलब के पीछे
दौड रहे सब आँखें मीचे
न कोई अपना नहीं पराया
ये सब है दौलत की माया
नाच रहा मन पागल होकर
पीकर ममता का प्याला
यह जीवन एक मधुशाला |

सब अपनी अपनी है धुन में
होठों पर कुछ, कुछ है मन में
कोई किसी के काम न आता
अपने अपने भाग्य बिधाता
करते है सब मान बढ़ाई
पीकर के अभिमान का प्याला
यह जीवन एक मधुशाला |

खोजें

लोड हो रहा है. . .