मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

अमन के अलम......................!

दिलों के जख्म यूँ गहरे हुए है |
वक्त-ए-मरहम भी ठहरे हुए है ||

अपनी तो गर्दिशों में उम्र गुजरी |
अमन के अलम अब फहरे हुए है ||

हुश्न की बिसात यूँ फैली हुई है |
कि अब कफ़न भी सेहरे हुए है ||

गुरवतें आँखों ने देखीं बहुत पर
यहाँ तो ज़र्द सब चेहरे हुए है |

बरस जायेंगे वो चलचित्र बनकर |
ख़्वाब आँखों में जो ठहरे हुए है ||

अभी तक दिल्लगी समझा जिसे था |
दाग दामन के अब गहरे हुए है ||

21 टिप्‍पणियां:

shama ने कहा…

अभी तक दिल्लगी समझा जिसे था |
दाग दामन के अब गहरे हुए है ||
Bahut,bahut sundar!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

हुश्न की बिसात यूँ फैली हुई है
कि अब कफ़न भी सेहरे हुए है
ये तो इश्क की इंतेहा है .. कफ़न भी सेहरे लगते हैं ...

बरस जायेंगे वो चलचित्र बनकर
ख़्वाब आँखों में जो ठहरे हुए है ..
उन ख्वाबों को बह ही जाना चाहिए तो ठहरे हुवे हैं ....

बहुत ही बेमिसाल भाव हैं सब शेरों में ... कमाल की अभिव्यक्ति है ...

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

bhai kin shabdon mein tareef karoon apne bade bhai ki...

bahut he uttam rachna ek baar phir...

गुरवतें आँखों ने देखीं बहुत पर
यहाँ तो ज़र्द सब चेहरे हुए है |

wah wah....

योगेश स्वप्न ने कहा…

bahut umda.

देवेश प्रताप ने कहा…

बहुत खूब ....

मनोज कुमार ने कहा…

बेहतरीन। बधाई।

sakshi ने कहा…

Psingh ji
esi behtarin gajal dil ki kis
likh di gahrai se likhte hai
apke shabd kaleje ko bhed dete hai
har sher par ruk kar suchna padta hai
अभी तक दिल्लगी समझा जिसे था |
दाग दामन के अब गहरे हुए है ||
vakai mazak ki baten kabhi kabhi daman ka dag bhi ban jati hai
behtarin'''''''''''

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

बेहतरीन ग़ज़ल...मुबारकवाद.

nikhil ने कहा…

दिलों के जख्म यूँ गहरे हुए है |
वक्त-ए-मरहम भी ठहरे हुए है ||
behtarin sher

singhsdm ने कहा…

तकनीकी बाधाओं ने मजबूर कर दिया वर्ना मैं इस रचना पर पहला कमेन्ट करना चाहता था..............अच्छे अलफ़ाज़ और एहसासात में पगी मनभावनी रचना......खासकर यह लाजवाब है.
बरस जायेंगे वो चलचित्र बनकर |
ख़्वाब आँखों में जो ठहरे हुए है ||

sangeeta swarup ने कहा…

बहुत खूबसूरत भावों से सजी सुन्दर ग़ज़ल

प्रकाश पाखी ने कहा…

अपनी तो गर्दिशों में उम्र गुजरी |
अमन के अलम अब फहरे हुए है ||
बेहद सुन्दर अशआर लिखे है..सिंह साहब और नसवा साहब की तारीफ हमारी भी मानी जावे!

ज्योति सिंह ने कहा…

अपनी तो गर्दिशों में उम्र गुजरी |
अमन के अलम अब फहरे हुए है
bahut sundar ,holi ki mubarakbaad aapko

sandhyagupta ने कहा…

गुरवतें आँखों ने देखीं बहुत पर
यहाँ तो ज़र्द सब चेहरे हुए है |

Bahut khub.

Babli ने कहा…

आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक बधाईयाँ एवं शुभकामनायें !

निर्मला कपिला ने कहा…

गुरवतें आँखों ने देखीं बहुत पर
यहाँ तो ज़र्द सब चेहरे हुए है |
अपनी तो गर्दिशों में उम्र गुजरी |
अमन के अलम अब फहरे हुए है
हर शेर उस्तादाना है। लाजवाब गज़ल बधाई

लता 'हया' ने कहा…

shukria,
aapki kuch gazalein padin,jazbaat acche hain.

singhsdm ने कहा…

ultimate poem.............grammer is nowhere but wordings is really recomendable....keep it up

सत्यम न्यूज़ ने कहा…

बहुत खूब भाई....

sada ने कहा…

हर शेर एक से बढ़कर एक, बधाई ।

manav vikash vigyan aur adytam ने कहा…

danyavaad singh sahab aap ne mera naya blog pada aap kee gajal achhi hai

खोजें