शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2010

बातों बातों में............

बातों बातों में बात बिगड़ जाती है |
शर्मिंदगी आखों से झलक जाती है ||

असलियत उनकी भी मुझे मालूम है |
गर कहता हूँ तो जुबान जल जाती है ||

साथ सूरज के कल सुकूँ उदय होगा |
इसी उम्मीद में रात गुजर जाती है ||

तुम खुद को यूँ गौर से देखा न करो |
नजर आइने की भी लग जाती है ||

तेरे बगैर भी हमने जी कर देखा है |
चंद लम्हों में जिंदगी सिमट जाती है ||

22 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

तुम खुद को यूँ गौर से देखा न करो |
नजर आइने की भी लग जाती है

क्या आशिकाना अंदाज़ है ........ बहुत खूब .......

तेरे बगैर भी हमने जी कर देखा है
चंद लम्हों में जिंदगी सिमट जाती है ...
ये बहुत सच और गहरा कहा है ........... उनके बगेर जीना भी कोन चाहता है ............

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

wah wah wah...
kya baat keh di aapne mere maalik...
nazar aaeene ki bhi lag jaati hai...

wah wah...

abhi main bhai apni ek nayi post karne wala hoon next 15 mins mein...

योगेश स्वप्न ने कहा…

साथ सूरज के कल सुकूँ उदय होगा |
इसी उम्मीद में रात गुजर जाती है ||
bahut umda. badhaai.

अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी ने कहा…

यहाँ खटक रहा है --- साथ सूरज के कल सुकूँ उदय होगा |
आज भी आपके यहाँ लय सधती कम दिखती है ..
यहाँ की तारीफ में क्या कहूँ ! वल्लाह ! ---
''तुम खुद को यूँ गौर से देखा न करो |
नजर आइने की भी लग जाती है || ''

Ashish (Ashu) ने कहा…

बेहद खुबसूरत रचना
बहुत बहुत आभार ग़ज़ल

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

मुहब्बत के अहसासों को बडी खूबसूरती से बयां किया है ।

देश अपरिमेय ने कहा…

एकदम शिधाई से दिल की बात कहने में कितना आकर्षण है
बहुत सुन्दर रचना
ऐसा लग रहा है जैसे बस मासूमियत से अपनी बात कही गयी है

ज्योति सिंह ने कहा…

तेरे बगैर भी हमने जी कर देखा है |
चंद लम्हों में जिंदगी सिमट जाती है ||
bahut khoob ,man ko chhoo gayi .

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

साथ सूरज के कल सुकूँ उदय होगा |
इसी उम्मीद में रात गुजर जाती है ||
बहुत ही सुन्दर. यही उम्मीद तो ज़िन्दा रखे है हमें.

singhsdm ने कहा…

पिंटू
बातों बातों में बात बिगड़ जाती है |
शर्मिंदगी आखों से झलक जाती है ||

बहुत सुन्दर............
साथ सूरज के कल सुकूँ उदय होगा |
इसी उम्मीद में रात गुजर जाती है ||
बहुत खूब

क्या शब्दों की माया रची है......
तेरे बगैर भी हमने जी कर देखा है |
चंद लम्हों में जिंदगी सिमट जाती है ||
वाह वाह

shama ने कहा…

तेरे बगैर भी हमने जी कर देखा है |
चंद लम्हों में जिंदगी सिमट जाती है ||
Tippani ke liye alfaz nahi! Nishabd kar diya aapne!

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

साथ सूरज के कल सुकूँ उदय होगा |
इसी उम्मीद में रात गुजर जाती है ||
....बहुत सुन्दर, प्रसंशनीय !!

सर्वत एम० ने कहा…

आप ने बहुत स्वादिष्ट, रुचिकर, सुपाच्य भोजन परोसा. अब नमक नहीं डाल सके तो इसकी शिकायत करना एहसान फरामोशी होगी.
आपका मेरे ब्लॉग पर आना, थोडा पढना, कमेन्ट देना, मुझे सुख देता है.
अब मैं टोकने वाला काम बंद कर रहा हूँ.

nikhil ने कहा…

सिंह साहब
इस शेर को पढकर मुंह से वाह वाह ......
ही निकल रहा है ..........................
तेरे बगैर भी हमने जी कर देखा है |
चंद लम्हों में जिंदगी सिमट जाती है ||
धन्यवाद

sakshi ने कहा…

पी.सिंह जी
आपकी रचनाओं में सत्य का पुट है और संजीदगी है|
बातों बातों में बात बिगड़ जाती है |
शर्मिंदगी आखों से झलक जाती है ||
ये सच है अगर बातें ज्यादा हो जाएँ तो फिर माहोल
बिगड़ना शुरू हो जाता है | और
शर्मिंदा व्यक्ति की आंखे झुकी रहती है ........
धन्यवाद

sada ने कहा…

बातों बातों में बात बिगड़ जाती है |
शर्मिंदगी आखों से झलक जाती है ||

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

अबयज़ ख़ान ने कहा…

तुम खुद को यूँ गौर से देखा न करो |
नजर आइने की भी लग जाती है ||

आशिकाना मिजाज की आशिकाना लाइन हैं.. मज़ा आ गया..

Babli ने कहा…

वाह वाह क्या बात है! बहुत ख़ूबसूरत पंक्तियाँ! इस लाजवाब रचना के लिए बधाई!

नरेन्द्र व्यास ने कहा…

असलियत उनकी भी मुझे मालूम है |
गर कहता हूँ तो जुबान जल जाती है ||
-----x---------x--------
तेरे बगैर भी हमने जी कर देखा है |
चंद लम्हों में जिंदगी सिमट जाती है || ........बहुत ही खूबसूरत अभिव्यक्ति। आभार!

mayur ने कहा…

wah wah bahut khub
असलियत उनकी भी मुझे मालूम है |
गर कहता हूँ तो जुबान जल जाती है ||
badhaiyan...................................................................

shriraj ने कहा…

chand lamhon me zindgi simat jaati hai.
this line only for me
nice, very nice

संजय भास्कर ने कहा…

क्या आशिकाना अंदाज़ है ........ बहुत खूब .......

खोजें