शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2010

बहुत अनजान है राहें..................

बहुत अनजान है राहें मगर चलना जरुरी है |
इश्क में बंदिशे लाखों मगर मिलना जरुरी है ||

बड़े बे पीर है चाहत के किस्से और क्या कह दें |
प्यार का नाम जो भी हो मगर करना जरुरी है ||

रिश्तों का टूटना जुड़ना है वक्त के हाथों |
प्यार के लेप से दरारें मगर भरना जरुरी है ||

बात कहने से दिल को सुकूँ मिलता है लेकिन |
बात को कहने से पहले मगर सुनना जरुरी है ||

लाखों मिट गए चाहत के इस गुमनाम दरिया में |
वक्त के साथ इंसां को संभल जाना जरुरी है ||

"पुष्पेन्द्र"अकेला ही दुनियां बदल सकता है लेकिन |
काफिला साथ में यारो मगर होना जरुरी है ||

25 टिप्‍पणियां:

देवेश प्रताप ने कहा…

लाखों मिट गए चाहत के इस गुमनाम दरिया में |
वक्त के साथ इंसां को संभल जाना जरुरी है ||

बहुत खूबसूरत ......पंक्तियाँ ......वैसे तो पूरी कविता भावपूर्ण है

मनोज कुमार ने कहा…

बात कहने से दिल को सुकूँ मिलता है लेकिन |
बात को कहने से पहले मगर सुनना जरुरी है ||
बिल्कुल सही बात है कि बात कहने के यदि पहले नहीं तो साथ-साथ सुनना भी ज़रूरी है। पर आजकल तो लोग टिप्पणी का आप्शन ही बंद कर देते हैं।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बात कहने से दिल को सुकूँ मिलता है लेकिन |
बात को कहने से पहले मगर सुनना जरुरी है ||
बहुत सुन्दर गज़ल. बधाई.

सत्यम न्यूज़ ने कहा…

बात कहने से दिल को सुकूँ मिलता है लेकिन |
बात को कहने से पहले मगर सुनना जरुरी है ||
क्या बात कही है....दिल को छू गयी.

Prem Farrukhabadi ने कहा…

रिश्तों का टूटना जुड़ना है वक्त के हाथों |
प्यार के लेप से दरारें मगर भरना जरुरी है ||
sampoorn ghazal sarahneey hai. Badhai!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

बात कहने से दिल को सुकूँ मिलता है लेकिन |
बात को कहने से पहले मगर सुनना जरुरी है ||
bahut hi badhiyaa

निर्मला कपिला ने कहा…

रिश्तों का टूटना जुड़ना है वक्त के हाथों |
प्यार के लेप से दरारें मगर भरना जरुरी है |

बात कहने से दिल को सुकूँ मिलता है लेकिन |
बात को कहने से पहले मगर सुनना जरुरी है ||
लाजवाब गज़ल है हर शेर सेर के उपर सवा सेर है बधाई इस गज़ल के लिये।

Devendra ने कहा…

अच्छी गज़ल..बधाई.

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

main aapke kaafile ke saath ho bhai ji

गौतम राजरिशी ने कहा…

"प्यार के लेप से दरारें मगर भरना जरुरी है"- बहुत बढ़िया मिस्रा पुष्पेन्द्र जी। मगर मैं आदत से मजबूर मीन-मेख निकालूंगा कि आपने लेबल में "ग़ज़ल" लिख कर इस रचना को ग़ज़ल की संज्ञा दी है जो अनुचित है।

बहरो-वजन तो दूर की बात काफ़ियों का भी निर्वहन ठीक ढ़ंग से नहीं हुआ है।

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
इसे 20.02.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

योगेश स्वप्न ने कहा…

achchi rachna.

sada ने कहा…

रिश्तों का टूटना जुड़ना है वक्त के हाथों |
प्यार के लेप से दरारें मगर भरना जरुरी है |

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

Babli ने कहा…

बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! बधाई!

ushma ने कहा…

bahut hi sunder bhavnao ki abhivyakti di hai ..
badhai !

रवि धवन ने कहा…

लाखों मिट गए चाहत के इस गुमनाम दरिया में |
वक्त के साथ इंसां को संभल जाना जरुरी है ||
बेहद बढिय़ा

प्रकाश पाखी ने कहा…

बड़े बे पीर है चाहत के किस्से और क्या कह दें |
प्यार का नाम जो भी हो मगर करना जरुरी है ||
वहुत अच्छे मिसरे निकाले है...
गौतम भाई के सुझाव विचारणीय है..

अल्पना वर्मा ने कहा…

रिश्तों का टूटना जुड़ना है वक्त के हाथों |
प्यार के लेप से दरारें मगर भरना जरुरी है ||

-बेहद सुन्दर लिखा है.

manav vikash vigyan aur adytam ने कहा…

bahoot anjaan hai raahe achha laga

दिगम्बर नासवा ने कहा…

रिश्तों का टूटना जुड़ना है वक्त के हाथों
प्यार के लेप से दरारें मगर भरना जरुरी है ...

सच है अगर प्यार की एक लम्हा भी टूटते हुवे रिश्तों को मिल जाए तो सकूँ आ जाता है ...
बहुत अच्छा लिखा है अपने .......

jamos jhalla ने कहा…

इसीलिए तो कहा गया है की प्यार बाँटते चलो|

singhsdm ने कहा…

राजरिशी साब की बात अपनी जगह.........ठीक सलाह दी है उन्होंने.....तुम्हें ग़ज़ल लिखते समय यह व्याकरण तो ध्यान देना ही होगा........लेकिन मैं राजरिशी साहब जितनी कठोर टिप्पणी नहीं करूंगा........अभी नए नए मैदान में आये हो तो ऐसी भूलें स्वाभाविक हैं......लेकिन मेहनत करो कोई एक दिन में शायर नहीं हो जाता ....बहरहाल ख्याल सुन्दर हैं.........!

mayur ने कहा…

सिंह साहब

इस गजल को पढ़कर सिर्फ

वाह वाह ही निकल रहा है

हर शेर पर वाह वाह ........

शुक्रिया .................

ज्योति सिंह ने कहा…

बड़े बे पीर है चाहत के किस्से और क्या कह दें |
प्यार का नाम जो भी हो मगर करना जरुरी है ||
बात कहने से दिल को सुकूँ मिलता है लेकिन |
बात को कहने से पहले मगर सुनना जरुरी है ||bahut laazwaab baate kah daali ,ekdam sach

nikhil ने कहा…

बहुत खूब कहा जनाब.........
बड़े बे पीर है चाहत के किस्से और क्या कह दें |
प्यार का नाम जो भी हो मगर करना जरुरी है ||
बगैर प्यार के जिंदगी क्या..............
निशब्द ................

खोजें