शुक्रवार, 22 जनवरी 2010

वक्त के हाथों तकदीरें

वक्त के हाथों सोंपी जिसने तकदीरें |
बनती रोज़ बिगडती उनकी तकदीरें ||

सही फैसला कैसे इन्सान ले पाए |
दिल को जकड़े है जज्वात की जंजीरें ||

आँखों को हरदम धोते है अश्कों से |
फिर भी रह जाती है उनकी तस्वीरें ||

खुदा से कैसे खुद को इन्सां अलग करे |
जबीं पे लिखीं उसने अपनी तहरीरें ||

सच्चाई इतिहास बयाँ करता आया |
शोषण करने वाली मिट गयी जागीरें ||

22 टिप्‍पणियां:

देश अपरिमेय ने कहा…

सही फैसला कैसे इन्सान ले पाए |
दिल को जकड़े है जज्वात की जंजीरें ||
कितना सही कहा है हम अपना अच्छा बुरा जानते हुए भी सही फैसला नहीं ले पते अक्सर

सच्ची रचना

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

वक्त के हाथों सोंपी जिसने तकदीरें |
बनती रोज़ बिगडती उनकी तकदीरें ||
बहुत सुन्दर.

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

sundar rachna.
आँखों को हरदम धोते है अश्कों से |
फिर भी रह जाती है उनकी तस्वीरें ||
yah umda she'r he.

BrijmohanShrivastava ने कहा…

क्या बात है आंखों को आंसुओं से निरन्तर धोते रहते है किन्तु उनकी तस्बीर फिर भी आंखों मे बसी रह जाती है

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

very nice pushpendra ji....
ek aur good compopsition...

संजय भास्कर ने कहा…

behtreen rachna....

हर्षिता ने कहा…

अच्छी एवं सच्ची रचना।

योगेश स्वप्न ने कहा…

behatareen.

Hitesh ने कहा…

सही फैसला कैसे इन्सान ले पाए |
दिल को जकड़े है जज्वात की जंजीरें ||

बहुत सुन्दर पंक्तियाँ है. इस रचना के लिए बधाई.

singhsdm ने कहा…

लम्बी है सही फैसला कैसे इन्सान ले पाए |
दिल को जकड़े है जज्वात की जंजीरें ||

आँखों को हरदम धोते है अश्कों से |
फिर भी रह जाती है उनकी तस्वीरें ||
अच्छे शेर लिख डाले भाई पुष्पेन्द्र........बहुत ही प्यारे शेर कहे है तुमने....

गौतम राजरिशी ने कहा…

अच्छे मिस्रे और कुछ सशक्त भाव लिये हुए है ये रचना। तनिक और मेहनत माँगती हैं ये पुष्पेन्द्र जी अगर इसे ग़ज़ल की संज्ञा देनी है तो...

Harsh ने कहा…

bahut achchi kavita lagi...........

प्रकाश पाखी ने कहा…

सच्चाई इतिहास बयाँ करता आया |
शोषण करने वाली मिट गयी जागीरें |
अच्छे भाव लिए रचना....गौतम जी ने सही इशारा किया है...इतने सशक्त भावों को थोड़ी मेहनत और देंगे तो खूबसूरत गजल बन जाएगी...

रंजीत ने कहा…

umdaaaaaaa

आमीन ने कहा…

Bindas..

श्रद्धा जैन ने कहा…

आँखों को हरदम धोते है अश्कों से |
फिर भी रह जाती है उनकी तस्वीरें ||

bahut achcha sher

bhaav bahut pasand aaye

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आँखों को हरदम धोते है अश्कों से
फिर भी रह जाती है उनकी तस्वीरें .....

वाह ...... लाजवाब है ये शेर ......... कमाल की ताज़गी है ...... मज़ा आ गया साहब .......

संजीव गौतम ने कहा…

वक्त के हाथों सोंपी जिसने तकदीरें |
बनती रोज़ बिगडती उनकी तकदीरें ||
achchhaa likhate hain aap. badhaayee

सर्वत एम० ने कहा…

आपकी मुहब्बत और इनायत के लिए शुक्रगुज़ार हूँ. थोडा आलसी हूँ, जल्दी -जल्दी पोस्ट नहीं कर पाता.
आप ने गजल लेबल वाली इस रचना के मतले में ऊपर-नीचे 'तकदीरें' का प्रयोग किया है. ऊपर तदबीरें कर लें. थोड़ी और मेहनत मांगती है गजल आपसे. हालाँकि इधर आप की गजलों में काफी विकास देखने में आया है. बस, थोडा सा प्रयास और...फिर मंजिल आपकी.

shama ने कहा…

आँखों को हरदम धोते है अश्कों से
फिर भी रह जाती है उनकी तस्वीरें ....waah !
Gantantr diwas kee anek shubhkamnayen!

Babli ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ! आपको और आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

सही फैसला कैसे इन्सान ले पाए |
दिल को जकड़े है जज्वात की जंजीरें ||

सच्चाई इतिहास बयाँ करता आया |
शोषण करने वाली मिट गयी जागीरें

p singh sahab,bahut achchhe sher hain ,sundar prastuti

खोजें